एफएक्स ट्रेडिंग

ऑप्शंन ट्रेडिंग क्या है?

ऑप्शंन ट्रेडिंग क्या है?
चूंकि उस कॉल विकल्प को 10 रुपये पर उद्धृत किया गया था, आपको प्रति स्टॉक INR 10, या INR 2,500 का प्रीमियम खर्च करना होगा (रु 10 x 250 यूनिट)।

शेयर मार्किट में CE और PE क्या है? 5 मिनट में समझें [2022] | What is CE & PE Stock Market Example in Hindi?

जो लोग वित्तीय पृष्ठभूमि से नहीं हैं, उनके लिए ऑप्शन ट्रेडिंग भ्रम से भरी है। बहुत सारे शब्द हैं जिन्हें समझना मुश्किल है। अगर आप शेयर मार्किट में CE और PE को अच्छे से समझना चाहते हो तो यह ब्लॉग पोस्ट सिर्फ आपके लिए है। पहली बार ऑप्शंन ट्रेडिंग क्या है? जब कोई ऑप्शन ट्रेडिंग सीखना शुरू करते हैं हर किसी के मन में यह सवाल आता है कि Stock Market में CE और PE क्या है?

तो लेख में हम इन शर्तों के बारे में आपके भ्रम को दूर करने के लिए उदाहरण के साथ सीई और पीई पर विवरण में चर्चा करेंगे। तो चलिए चर्चा करना शुरू करते हैं कि CE और PE क्या है?

Table of Contents

CE और PE क्या है? – What is CE & PE Share Market Example in Hindi?

CE कॉल ऑप्शन (Call Option) का शॉर्ट फॉर्म है, हालांकि वास्तव में इसका पूरा नाम कॉल यूरोपियन (Call European) है। CE ऑप्शंन ट्रेडिंग क्या है? निवेश अनुबंध (Contracts) हैं जो निवेशक को एक निश्चित समय सीमा के भीतर एक निश्चित लागत पर स्टॉक, बॉन्ड, उत्पाद, या अन्य संपत्ति या साधन खरीदने का अधिकार प्रदान करते हैं, वो भी बिना प्रतिबद्धता के।

मूल संपत्ति एक शेयर, बांड या कमोडिटी है। जब मूल संपत्ति का मूल्य बढ़ता है, तो कॉल खरीदार को लाभ होता है।

प्रतिभूतियों पर कॉल विकल्प (Call Option) निवेशक को एक निश्चित तिथि (समाप्ति तिथि) से पहले एक निश्चित कीमत (स्ट्राइक प्राइस) पर फर्म के शेयरों की निश्चित संख्या हासिल करने का विकल्प प्रदान करते हैं।

कॉल ऑप्शन (CE) कब खरीदें? – When to Buy Call Option in Hindi?

मान लें कि रिलायंस की वार्षिक आम बैठक (AGM) आ रही है, और आप उम्मीद करते हैं कि बैठक में एक महत्वपूर्ण निर्णय लिया जाएगा। हालाँकि स्टॉक वर्तमान में INR 1950 पर कारोबार कर रहा है, आप मानते हैं कि यह समाचार कीमत को अधिक बढ़ा देगा, संभवतः INR 1950 से ऊपर।

हालांकि, आप कैश सेगमेंट में रिलायंस को खरीदने से सावधान हैं क्योंकि यह बहुत जोखिम भरा है, और आप इसे फ्यूचर्स मार्केट में नहीं खरीदना चाहेंगे क्योंकि फ्यूचर्स आपको असीमित जोखिम के लिए उजागर करता है।

आप घोषणा के परिणामस्वरूप दर में वृद्धि से चूकना नहीं चाहते हैं, और आप अस्थिरता को खत्म करने के लिए थोड़ी सी राशि का जोखिम उठाने को तैयार हैं। आपके लिए, एक कॉल विकल्प एकदम सही है।

उदाहरण:

आप विकल्प बाजार में तरलता के आधार पर, एक ऐसे समय में जब मौजूदा कीमत INR 1950 है, एक रिलायंस कॉल ऑप्शन में INR 1970 की स्ट्राइक लागत के साथ व्यापार करने में रुचि हो सकती है।

PE का क्या अर्थ है? – What is PE in Stock Market in Hindi?

PE, Put Option का संक्षिप्त रूप है, हालाँकि, वास्तविक पूर्ण रूप पुट यूरोपियन है। पुट विकल्प (Put Option) एक अनुबंध है जो धारक को एक निश्चित समय अवधि के भीतर एक विशिष्ट लागत पर वास्तविक सुरक्षा के मूल्य से पहले बेचने या बेचने की प्रतिबद्धता नहीं बल्कि विशेषाधिकार देता है।

स्ट्राइक रेट वह निश्चित मूल्य है जिस पर पुट ऑप्शन का ट्रेडर बेचेगा। शेयरों, मुद्राओं, बांडों, वस्तुओं, वायदा और सूचकांकों को पुट विकल्प के लिए मूल संपत्ति के रूप में आदान-प्रदान किया जाता है।

कॉल ऑप्शन पुट ऑप्शन के बिल्कुल विपरीत है। किसी भी बाजार में विक्रेता के बिना बोली लगाने वाला कभी नहीं हो सकता। समान रूप से, आप विकल्प खंड में पुट विकल्प के बिना कॉल विकल्प प्राप्त नहीं कर सकते।

शेयर पुट ऑप्शन उसी तरह से काम करते हैं जैसे स्टॉक कॉल ऑप्शन करते हैं। इस स्थिति में, फिर भी, विकल्प निवेशक शेयर के मूल्य पर मंदी की स्थिति में है और गिरावट से लाभ की उम्मीद करता है।

कॉल और पुट की जानकारी, ऑप्शन ट्रेडिंग की जानकारी

ऑप्शन (Option) दो प्रकार के होते है – कॉल ऑप्शन और पुट ऑप्शन. इन्हें आम भाषा में कॉल और पुट कहते है, (Call or Put). ऑप्शन अंग्रेज़ी भाषा का शब्द ऑप्शंन ट्रेडिंग क्या है? है जिसका अर्थ है, विकल्प. हर ऑप्शन की एक आखिरी तारीख होती है, इसे एक्सपायरी या मेचुरिटी ऑप्शंन ट्रेडिंग क्या है? डेट (expiry or maturity date) भी कहते है. इस दिन के बाद वह ऑप्शन अर्थात कॉल या पुट ख़त्म हो जाती है. भारतीय शेयर बाजारों (NSE और BSE) में महीने के आखिरी गुरुवार को उस महीने के फ्यूचर और ऑप्शन (F&O) की एक्सपायरी (expiry) होती है. यदि आखिरी गुरुवार को छुट्टी हो तो एक दिन पहले एक्सपायरी की तारीख होती है. लेकिन करेंसी फ्यूचर और ऑप्शन की एक्सपायरी तारीख अलग होती है. ऑप्शन एक प्रकार का कॉन्ट्रैक्ट होता है जिसमे खरीदने वाले के पास यह विकल्प होता है की वह उस कॉन्ट्रैक्ट की अंतिम तारीख या मेचुरिटी पर वह कॉन्ट्रैक्ट खरीदना चाहता है या नहीं. इसमें खरीदने वाले व्यक्ति पर यह बाध्यता नहीं होती है की उसे कॉन्ट्रैक्ट खरीदना या बेचना ही है. इसे आगे उदाहरण से समझाया गया है. निफ़्टी की पुट और कॉल यानि इंडेक्स (Index) के ऑप्शन यूरोपियन ऑप्शन होते है. (Nifty Put and Calls are European Options). स्टॉक्स यानि शेयर्स के पुट और कॉल के ऑप्शन अमेरिकन ऑप्शन होते है. (Stock Put and Calls are American Options). यूरोपियन ऑप्शन में कॉन्ट्रैक्ट के आखिरी दिन यानि एक्सपायरी के दिन खरीदने वाला व्यक्ति अपने विकल्प का उपयोग कर सकता है, जबकि अमेरिकन ऑप्शन में खरीदने वाला व्यक्ति कभी भी अपने विकल्प का उपयोग कर सकता है. लेकिन इन दोनों में आप अपनी खरीदी हुई कॉल या पुट को कभी भी बेच सकते है.

कॉल और पुट ऑप्शन क्या है ?(What Is Call And Put Option)

कॉल और पुट ऑप्शन ट्रेडिंग पहली बार समझने मे काफी कठिन लगती है लेकिन एक बार इसके बारे मे जानने के बाद यह काफी आसान हो जाता है।

  • ऑप्शन ट्रेडिंग मे शेयर बाजार पर रिसर्च करके आपको ऐसा लगता है की एक चुना हुआ शेयर ऊपर जाने वाला है।
  • ऐसे समय आप उसको कॉल ऑप्शन के जरिये खरीद सकते है और इसमे शेयर ऊपर जाने पर सीधा लाभ होता है।
  • उदहारण के तौर पर आपने रिलायंस के शेयर पर रिसर्च करके यह जान लिया है की शेयर की कीमत ऊपर जाने वाली है और आपने कॉल ऑप्शन चुन लिया है तो शेयर ऊपर जाने से मुनाफा होगा।
  • मतलब रिलायंस शेयर की कीमत अभी 100 रुपये है तव कॉल ऑप्शन आप 150 पर खरीद सकते है मतलब आने वाले समय मे शेयर की कीमत 100 से 150 तक जाएगी जिसके आपको मुनाफा होगा।

2 पुट ऑप्शन क्या होता है ?(What Is Put Option)

  • पुट ऑप्शन मार्किट के ख़राब समय मे चुना जाता है जब बाजार और शेयर गिर रहे होते है।
  • अगर किसी एक शेयर की कीमत इस समय 100 रुपये है और आप इसका पुट ऑप्शन 70 रुपये मे खरीदते है
  • ऐसे समय शेयर निचे 70 रुपये पर पहुंचने पर निवेशक को मुनाफा होगा।
  • पुट ऑप्शन निवेशक मंदी या फिर गिरावट के समय एक बिमा जैसे इस्तेमाल कर सकते है।
  • कॉल और पुट ऑप्शन मे ट्रेडिंग करने के लिए शेयर्स की महीने की सीरीज होती है इस महीने की सीरीज की एक्सपाइरी हर महीने के अंतिम गुरवार को होती है।
  • यह महीने की सीरीज 3 महीने तक की होती है।
  • आप शेयर बाजार मे शेयर के आलावा करेंसी और इंडेक्स मे भी ऑप्शन ट्रेडिंग कर सकते है।
  • कॉल और पुट ऑप्शन ट्रेडिंग करते समय आपको अलग अलग विकल्पों का इस्तेमाल करना होता है इस विकल्पों को जानकारी आप आसानी से इसमे ट्रेडिंग शुरू कर सकते। है।

1 लॉट साइज़ :(Lot Size)

  • जब आप ऑप्शन ट्रेडिंग मे ट्रेडिंग करते है तब आपको शेयर के एक लॉट को खरदीना पड़ता है।
  • शेयर के कीमत के अनुसार उसकी लॉट साइज़ कीमत कम ज्यादा होती है।
  • कॉल और पुट दोनों ऑप्शन मे ट्रेड करते समय आपको लॉट मे शेयर खरीदने होते है।
  • ऑप्शन ट्रेडिंग करते समय आप जिस चुने हुए कीमत पर कॉल और पुट ऑप्शन खरीदते है उसे स्ट्राइक प्राइस कहा जाता है।
  • शेयर के अब के कीमत मे और बेचे या फिर ख़रीदे जाने वाले अंतर होता है।

नए निवेशक ना करें फ्यूचर और ऑप्शन में ट्रेडिंग हो सकता है घटा

नए निवेशक ना करें फ्यूचर और ऑप्शन में ट्रेडिंग हो सकता है घटा

शेयर बाजार से कम समय में अधिक प्रॉफिट कमाने के चक्कर में छोटे निवेशक अक्सर फ्यूचर ऑप्शन में ट्रेडिंग का रुख अपनाते हैं अधिक प्रॉफिट कमाने के चक्कर में नए निवेशकों को वायदा कारोबार में अत्यधिक नुकसान सहना पड़ सकता है नए निवेशकों को चाहिए कि वह जब तक शेयर मार्केट में कुछ समय ना बिता लें तब तक वायदा कारोबार में ट्रेनिंग ना करें

नए निवेशक ना करें फ्यूचर और ऑप्शन में ट्रेडिंग

इक्विटी बाजार में ट्रेडिंग 2 सेगमेंट होते है

1) कैश ट्रेडिंग

इस प्रकार के ट्रेडिंग में आप मॉर्निज के बिना आपके खुदके पैसों ट्रेडिंग कर सकते है। इसमें आप शेयर की दिलीविरी लेकर खरीद और बिक्री कर ट्रेडिंग करते है। इसमें आपको बहोत कम रिटर्न्स मिलता है। मगर इसमें आर्थिक जोखिम भी बहोत कम होता है। शेयर बाजार में पेशे आदर ट्रेडर इस तरह के ट्रेडिंग नहीं करते है । इसमें लेवल लघु समय ( < 1 वर्ष ) के निवेशक ट्रेडिंग करते है।

2) डेरिवेटिव्स ट्रेडिंग

इस प्रकार के ट्रेडिंग में आप ब्रोकर मॉर्निज पैसों के साथ आपके ट्रेडिंग कर सकते है। इसमें आप स्टॉक ( ITC , HDFC , Reliance ) , करेंसी ( USD/INR ) , इंडेक्स ( NIFTY 50 / SENSEX ) और कमोडिटी ( Cruid Oil , Gold , Silver ) की दिलीविरी लिए बिना खरीद और बिक्री कर ट्रेडिंग करते है। इसमें आपको बहोत ज्यादा रिटर्न्स मिलता है। मगर इसमें आर्थिक जोखिम बहोत ज्यादा होता है। शेयर बाजार में पेशेदार ट्रेडर इस तरह के ट्रेडिंग करते है ।

डेरिवेटिव्स ट्रेडिंग 2 तरह के होते है

a) फ्यूचर ट्रेडिंग

शेयर मार्किट में फ्यूचर ट्रेडिंग या फ्यूचर कॉन्ट्रैक्ट ट्रेडिंग का मतलब होता हे की आप किसी भी स्टॉक / इंडेक्स को उसकी एक्सपाइरी डेट से पहले खरीद या बेच सकते हे, कोई भी फिक्स प्राइस पर।

b) ऑप्शन ट्रेडिंग

शेयर बाजार मेंहर दिन शेयर और इंडेक्स की मूल्य ऊपर नीचे होते रहता है । इस में अगर आप किसी शेयर को भबिष्य के किसी निधारित मूल्य (strick price) में बेचना और ख़रीदना हो तो आपको किसी के साथ एक कॉन्ट्रैक्ट करना होता है । इस को आसान भासा में स्टॉक हेजिंग कहे ते है इस के निबेश की रिस्क कम होजा ता है । सभी कॉन्ट्रैक्ट का एक निधारित समय सीमा होता है । इसी कॉन्ट्रैक्ट (Option) को बेचना और खरीदना को option trading कहते है ।

बाजार में बहोत सारे ऐप है जो कि ऑप्शन ट्रेडिंग देते है मगर सबमें अलग ब्रोकेज चार्ज और मार्जिन के नियम अलग अलग है । इस लिए आपको बहोत सावधानी से अपना ब्रोकर चुने । में आपको ऑप्शंन ट्रेडिंग क्या है? कुछ ब्रोकर की सलाह देसकता है ।

1. जेरोधा सेकुरिट्स
2. ऐंजल ब्रोकिंग
3. मोतीलाल ओसबल सेकुरिट्स
4. IIFL सेकुरिट्स
5. उप स्टॉक

रेटिंग: 4.74
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 826
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *