विदेशी मुद्रा विश्वकोश

ग्राफिक बाजार विश्लेषण

ग्राफिक बाजार विश्लेषण
एसईओ कंटेंट राइटर (SEO Content Writer)
यहां पर कंटेंट किंग होता है। कोई भी ऑनलाइन वेबसाइट तब तक काम नहीं कर सकती जब तक उसमें ग्राहकों का ध्यान खींचने के लिए आकर्षक सामग्री न हो। ऑन-पेज से लेकर ऑफ-पेज तक हर स्तर पर सामग्री काफी आकर्षक होनी चाहिए ताकि लोगों का ध्‍यान खींच सके और फिर से वापस आने का मन करे। इनकी औसत सैलरी 3.5 लाख से 4 लाख रुपये प्रति वर्ष होती है।
इसे भी पढ़ें: Career Tips: कुछ क्रिएटिव करना है पसंद है तो VFX में बनाएं करियर, जानें कितनी होगी सैलरी

गोदाम प्रबंधक ( Warehouse Manager)
ऑफलाइन स्टोर हो या ऑनलाइन फैशन मार्केट, सभी के लिए वेयरहाउस मैनेजर एक जरूरी सेगमेंट है। उनकी नौकरी की भूमिका मुख्य रूप से बाजार में उत्पादों के समय पर निर्माण और प्रबंधन करने के अलावा आने जाने वाले सामानों का समय प्रबंधन करना है। लॉजिस्टिक्स के अनियमित रखरखाव और इन्वेंट्री प्रबंधन की कमी के साथ कोई भी कंपनी सफल नहीं होती है। इन्‍हें प्रतिवर्ष 2 से 3 लाख रुपये सैलरी मिलती है।

Graphic: Ramandeep Kaur | ThePrint

कला और तकनीक का हुनर रखते हैं, तो ग्राफिक डिजाइनिंग में बना सकते हैं करियर

Graphic Designing

ग्राफिक डिजाइनिंग टाइपोग्राफी, फोटोग्राफी और इलस्ट्रेशन का इस्तेमाल करते हुए विजुअल कम्यूनिकेशन और कम्यूनिकेशन डिजाइन की मिली-जुली प्रक्रिया है। ग्राफिक डिजाइनर विचारों और संदेशों को कम्प्यूटर सॉफ्टवेयर या हाथ से संकेतों, चित्रों और शब्दों के सहारे दिखाता है। आमतौर पर ग्राफिक डिजाइन का उपयोग कॉर्पोरेट डिजाइन (लोगो और ब्रांडिंग), संपादकीय डिजाइन (पत्रिकाएं, अखबार और पुस्तकें), पर्यावरणीय डिजाइन, विज्ञापन, ब्रोशर्स, कॉर्पोरेट रिपोर्ट, वेब डिजाइन, कम्यूनिकेशन डिजाइन, उत्पादों की पैकेजिंग और साइनिज में किया जाता है। ग्राफिक डिजाइन उत्पादों की मार्केटिंग और उन्हें बेचने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। ग्राफिक डिजाइनर द्वारा तैयार किए गए अच्छे डिजाइन से प्रोडक्ट की शानदार मार्केटिंग की जा सकती है।

ग्राफिक्स क्या है

ग्राफिक्स क्या है

ग्राफिक्स क्या है

ग्राफिक्स क्या है :- आज की ब्लॉग के बात करने वाले है graphics ke बारे में की graphics Kya hota he or Kya Kya FAYADE he graphics are

ग्राफिक्स क्या है:-कंप्यूटर एक दृश्य माध्यम है हमें इसमें जो इनपुट करते हैं उसे स्क्रीन पर देख सकते हैं डाटा को चित्रात्मक रूप में दिखाने की कंप्यूटर की क्षमता को ही कंप्यूटर ग्राफिक्स कहा जाता है

  1. :-यह डेटा चित्र भी हो सकता है संख्यात्मक आंकड़े भी अथार्थ कंप्यूटर ग्राफिक्स के अंतर्गत चित्रात्मक डाटा इनपुट व आउटपुट के सभी चरण आ जाते हैं चित्र इनपुट चित्र बनाना तथा चित्र का संग्रह एवं वंचित रूप से आउटपुट वर्तमान में ऐसे कई ग्राफिक्स सॉफ्टवेयर पैकेज बाजार में उपलब्ध है ग्राफिक्स क्या है

‘रुपये को बचाने की कीमत’- हर हफ्ते $3.6 बिलियन गंवाए, भारत के विदेशी मुद्रा भंडार में एक दशक में सबसे बड़ी गिरावट दिखी

प्रतीकात्मक तस्वीर

नई दिल्ली: फरवरी में रूस-यूक्रेन युद्ध छिड़ने के बाद से भारत के विदेशी मुद्रा भंडार में लगातार गिरावट दर्ज की जा रही है. भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) के साप्ताहिक स्टेटिस्टिकल सप्लीमेंट के मुताबिक, 9 सितंबर तक भारत का विदेशी मुद्रा भंडार 550.8 अरब डॉलर था. ये 2020 के बाद सबसे कम है, जब यह आंकड़ा 580 अरब डॉलर पर पहुंच गया था.

जनवरी के पहले सप्ताह में भारत के पास 633 अरब डॉलर का विदेशी मुद्रा भंडार था, जिसका मतलब है ग्राफिक बाजार विश्लेषण कि इस कैलेंडर वर्ष में अब तक 82 अरब डॉलर से अधिक की गिरावट दर्ज की गई है जो कि पिछले एक दशक में सबसे अधिक है.

एक दशक में सबसे ज्यादा कमी

पिछले 10 सालों की तुलना में यह कमी भारत में अब तक की सबसे तेज गिरावट है. कैलेंडर वर्ष 2011 (0.6 अरब डॉलर), 2012 (1.7 अरब डॉलर), 2013 (1.8 अरब डॉलर) और ग्राफिक बाजार विश्लेषण 2018 (13.28 अरब डॉलर) भारत के विदेशी मुद्रा भंडार के घटने के गवाह हैं—लेकिन यह गिरावट उनके आकार की तुलना में मामूली थी.

बाकी सालों में भारत के विदेशी मुद्रा भंडार में वृद्धि दर्ज की गई है और इसमें से वर्ष 2020—जब सारी दुनिया कोविड-19 महामारी से प्रभावित रही—सबसे अधिक लाभकारी रहा. उस साल भारत की विदेशी मुद्रा संपत्ति में करीब 119 अरब डॉलर (2019 के अंत में 461 अरब डॉलर से बढ़कर 2020 के अंत ग्राफिक बाजार विश्लेषण तक 580 बिलियन डॉलर) की वृद्धि दर्ज की गई. 2021 के अंत तक, आंकड़ा 52 अरब डॉलर बढ़कर 633 अरब डॉलर पर पहुंच गया. पिछले साल 3 सितंबर को भारत ने अपने विदेशी मुद्रा भंडार को 642.45 अरब डॉलर के रिकॉर्ड उच्च स्तर पर देखा था.

ऐसा क्यों हुआ?

विदेशी मुद्रा में कमी का मतलब है कि आरबीआई रुपये के गिरते मूल्य पर काबू पाने के लिए डॉलर बेच रहा है, जो जुलाई में 80 रुपये प्रति डॉलर के सर्वकालिक निचले स्तर पर पहुंच गया था.

ऐसा होने का एक सबसे बड़ा कारण यह है कि अमेरिका के केंद्रीय बैंक यूएस फेडरल रिजर्व ने रिकॉर्ड उच्च स्तर पर पहुंची मुद्रास्फीति पर लगाम कसने के लिए प्रमुख ब्याज दरों में वृद्धि ग्राफिक बाजार विश्लेषण कर दी है. इस साल, यूएस फेड ने अब तक चार ग्राफिक बाजार विश्लेषण मौकों पर कर्ज पर ब्याज की दर बढ़ाई है—यह अगस्त में 2.25-2.5 प्रतिशत रही, जो मार्च में 0.25-0.5 ग्राफिक बाजार विश्लेषण प्रतिशत थी.

ऋण दर में बढ़ोतरी करके यूएस फेड दरअसल मुद्रा के तौर पर डॉलर का उपयोग करने वाले लोगों की क्रय ग्राफिक बाजार विश्लेषण शक्ति सीमित करना चाहता है. और जैसा इकोनॉमिक टाइम्स का एक ग्राफिक बाजार विश्लेषण विश्लेषण बताता है, इसका नतीजा यह हुआ कि भारत में विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों ने पिछले एक साल में 39 अरब डॉलर से अधिक की निकासी की.

Career Tips: ऑनलाइन फैशन बाजार में हैं कई करियर ऑप्शन, जानें कोर्स की पूरी डीटेल

this-is-same-shoes

Image Credit: freepik

  • फैशन बाजार में हैं कई करियर ऑप्श
  • मार्केटिंग स्पेशलिस्ट फील्ड में मिलती है अच्छी सैलरी
  • यहां जानें इससे जुड़ी सभी जरूरी बातें

फैशन डिजाइनर (Fashion Designers)
फैशन बाजार का साम्राज्य फैशन डिजाइनर पर निर्भर करता है। इनके इमेजिनेशन को वास्तविकता में बनाया जाता है। फैशन डिजाइनर ग्राफिक बाजार विश्लेषण चित्रण से लेकर अंतिम मॉडल शूट तक, हर जगह अपनी भूमिका निभाते हैं। इसलिए यह ऑनलाइन फैशन बाजार में सबसे रोमांचक नौकरियों में से एक है। टेक्सटाइल डिजाइनरों और फैशन डिजाइनरों को समन्वय (Coordination) की आवश्यकता होती है और सभी आकारों में शैलियों और परिधान (apparel) बनाने की बात आती है तो यह सबसे चुनौतीपूर्ण नौकरियों में से एक है। इनकी औसत सैलरी 2 लाख से 5 लाख रुपये प्रति वर्ष होती है।
इसे भी पढ़ें: Career Tips: बी.टेक या बी.ई? जानिए कौन-सी फील्ड है बेहतर, अंतर और करियर ऑप्शन

ट्रेंड फोरकास्टिंग डिपार्टमेंट (Trend Forecasting Department)
फैशन बाजार तब तक नहीं चल सकता जब तक कि उसे नवीनतम ट्रेंड से अपडेट नहीं किया जाता है। यह वह जगह है जहां ट्रेंड फोरकास्‍टिंग डिपार्टमेंट हर नए फैशन को पहचानता है और उनके साथ चलने की कोशिश करता है। फैशन बाजार में मुख्य रूप से इस विभाग की आवश्यकता पड़ती है। इनकी औसत सैलरी 5 से 7 साल के अनुभव के बाद 20 लाख से ज्‍यादा हो सकती है।

रेटिंग: 4.96
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 424
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *